रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल

ज़िंदगी बहर-ए-बला है गोया
मौत हर ग़म की दवा है गोया
zindgi bahr-e-blaa hai goya...
maut har gham ki dua hai goya

कल ही रूठा था मगर लगता है
एक मुद्दत से ख़फ़ा है गोया
kal hi rootha tha magar lagta hai..
aik muddat se khaphaa ho Goya

हिज्र बैठा है लिपट कर दिल से
.जिस्म से लिपटी क़बा है गोया
hijar baitha hai lipat kar dil se
jism se lipti qbaa ho goya

दिलके सहरा पे बहुत बरसी है
आँख सावन की घटा है गोया
Dil ke sehra pe bahut barsi hai .
aankh saawan ki ghtaa ho Goya

नाम आया है तिरा लब पे बस
मुह में अमृत सा घुला है गोया
Naam aaya tha tira lab pe bas
muh mein amrit sag hula ho Goya

दीद में तैरता था इक आंसू
कोई सैलाब उठा है गोया
deed mein tairta thaa ikk aansoo
koi sailaab uthaa hai goya
कोई मीरा हुई है जोगन फिर

नै सा ही साज़ सुना है गोया
Koi Meera hui hai jogan phir
nai sa hi saaz suna hai Goya

आह पर आह किये जाता है |
प्रेम’ का रोग लगा है गोया
aah par aah kiye jaata hai
PREM ka rog lgaa ho jaise


©Prem Lata Sharma. .