रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल ...

समझ न पाए की आख़िर वो डर गया कैसे
वो शख्स वादे से अपने मुकर गया कैसे
SAMJH NA PAAYE KI AAKHIR VO DAR GYAA KAIS’y
VO SHKHS WAADE SE APNE MUKAR GYA KAIS’Y

मेरा एहसास जिया करता था दिल में उसके
न जाने आज वह अहसास मर गया कैसे
MERA AHSAAS JIYA KARTA THAA DIL MEIN USKy
NA JAANE AAJ VO EHSAAS MAR GYA KAISy


हर एक क़ौल था उसका लकीर पत्थर पे
तो बन के रेत का टीला बिखर गया कैसे
HAR AIK QAUL THAA USKA LAKEER PATHH PE
TO BAN KE RET KA TEELA BIKHAR GYA KAISy

हसीन ख़्वाबों के तिनके चुने महल के लिए
महल वह बनने से पहले ही गिर गया कैसे
HASEEN KHWABO,n KE TINKy CHUNE MAHAL KE LIYE
MAHAL VO BAN-NE SE PAHLE Hi GIR GYAA KAISy

वो ऐसा बिछड़ा कि नींदें भी ले गया मेरी
खुली सी आँख में सपना संवर गया कैसे
VO AISA BICHHDA KI NEENDE BHI LE GYAA MERI
KHULI SI AANKH ME SAPNA SANWAR GYAA KAISy

रम-ए-आहू सी ही वहशत सवार थी जैसे
सराब सा मेरी आँखों में भर गया कैसे
RAM-E-AAHU SI HI VAHSHAT SWAAR THEE JAISy
SRAAB SA MERI AANKHOn MEIN BHAR GYA KAISEy

वो तेरे वादे वो कसमे वो ऐतबार मिरा
मेरी ही पीठ पे खंजर उतर गया कैसे
VO TERE WADE, VO KASME VO AITBAAR MIRA
MERI HI PEETH PE KHNJAR UTAR GYAA KAISy

जो शौक़ रखता था तूफान से टकराने का
जरा सी तुंद हवाओं से डर गया कैसे
TERA TO SHAUQ THAA TOOHAAN SE TAKRAANE KA
ZRAA SI TUND HAWAAOn SE DAR GYAA KAISE

“प्रेम” के साथ उसे चलना था कयामत तक
तो पहले मोड़ पे आकर ठहर गया कैसे
PREM KE SAATH USE CHALNA THAA QYAMAT TAK
TO PAHLE MOD PE AAKAR THAHAR GYAA KAISy

©Prem Lata Sharma
7/10/2015