रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल

Wafa ko dhoondne shaam o sehar gayi hoo'n mai'n ,
Raqeebe waqt hoo'n har ek dagar gayi hoo'n mai'n .
वफ़ा को ढूँढने शाम-ओ-सहर गयी हूँ मैं...
रक़ीब-ए-वक्त हो हर इक डगर गयी हूँ मैं

Koi bhi bazm na kar paayi mutmayin mujh ko
Tumhare dar pe hi aa kar thahar gai hoo'n mai'n
कोई भी बज़्म न कर पायी मुत्मईं मुझको
तुम्हारे दर पे ही आकर ठहर गयी हूँ मैं

Nigal na jaaye'n andhe'nre kahee'n tadabbur ko ,
Charaage azm ki lou si bikhar gayi hoo'n mai'n
निगल न जाएँ अँधेरे कहीं तद्दबुर को
चराग़-ए-अज्म की लौ सी बिखर गयी हूँ मैं

Bichad ke tum se mai'n ji paaoongi bhala kaise ,
Ye soch kar tiri qurbat se dar gayi hoo'n mai'n .
बिछड़ के तुम से मैं जी पाऊंगी भला कैसे
यह सोच कर तिरी क़ुर्बत से डर गयी हूँ मैं

Jo dekhi ishq me ghairat ki mai'n ne neelaami,
Farebe ishq se pahle sudhar gayi hoo'n mai'n .
जो देखी इश्क़ में ग़ैरत की मैं ने नीलामी
फ़रेब-ए- इश्क़ से पहले सुधर गयी हूँ मै

Chaman me urdu ke ja kar mujhe hua mahsoos
Adab ki meethi si khushbu ke ghar gayi hoo'n mai'n .
चमन में उर्दू के जाकर मुझे महसूस हुआ
अदब की मीठी सी ख़ुशबू के घर गयी हूँ मैं

Wo sachche piyaar ki manzil ko dhoondne ke liye ,
Har aik gao'n , gali aur nagar gayi hoo'n mai'n
वो सच्चे “ प्रेम” की मंज़िल को ढूढने के लिए
हर एक गाओं, गली और नगर गयी हूँ मैं

Prem Lata Sharma....18/6/2016