रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल
वो एक तुम थे जो अहद-ए-वफ़ा निभा न सके
ख़ुदी भुला दी मगर तुम को हम भुला न सके
vo aik tum the’Y jo ehd-e-wafaa nibha na sake
khudi bhuladimagar ham tumhe bhulana sake...

हथेलियों की नमी रख दी तेरे हांथों पर
जो दिल में जलता है सहरा तुझे दिखा न सके
hatheliyoN ki namee rakh di tere haathoN par
jo dil mein jalta hai sahra tumhe dikha na sake

लहद में आ गए हम दर्द लेके सीने मैं
तेरी जफ़ाओं का भी कर्ज़ हम चुका न सके
lahad mein aa gaye ham dard leke seene mein
teri jafaaoN ka bhi karz ham chukka na sake

हम अपनी चुप से तोड़ ही न सके लफ़्ज़ कोई
मुहब्बतों का तराना तुम्हे सुना न सके
ham apni chup se tod hina ske lfz koi
muhabttoN ka taraana tumhe suna na ske

तमाशा खुद ही किया खुद ही तमाशाई हुए
जिगर से उठता धुंआ हम तुम्हें दिखा न सके
tmaasha khud hi kiya khud hi tmaashaayi huye
jigar mein urhta dhuaaN ham tumhe dikha na sake

न दिल में दाग़ ही बाक़ी न आग ही बाक़ी
हैं क्यों असीर-ए-अलम राज़ यह बता न सके
na dilmein daagh hi baaki nan a aag hi baaki
hai kyoN aseer-e-alam raaz yeh btaa na ske

कभी रदीफ़ हुए और कभी तरन्नुम भी
तुम्हारी ग़ज़ल के सीने मैं हम समा न सके
kbhi radeef huye aur kabhi tarnnum bhi
tumhari ghazal ke seene mein ham smaa na ske

Prem Lata sharma..4/6/2016