रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल


Vo apna waada-e-ulphat nibaha dete to kya hota...
shghufta fool si soorat dikha dete to kya hota
वो अपना वादा-ए-उल्फ़त निभा देते तो क्या होता
शगुफ़्ता फूल सी सूरत दिखा देते तो क्या होता

chhipayi har khataa meri bahut unki inaayat hai,
vo hans kar taal jaate hain sazaa dete to kya hota
छिपाई हर ख़ता मेरी बहुत उनकी इनायत है
वो हंस कर टाल जाते हैं ,सज़ा देते तो क्या होता

btaaye’N kya basar kaise hui hai khaar-zaaro’N mein
jo ik khaar-e-japha vo bhi chubha dete to kya hota
बताएं क्या बसर कैसे हुई है ख़ार ज़ारों में
जो इक ख़ार-ए-जफ़ा वो भी चुभा देते तो क्या होता

dua lab pe, jigar mein aag aur aankho’N mein hain aansoo
nya ik zakhm dil par bhi lgaa dete to kya hota
दुआ लब पे जिगर में आग और आँखों में हैं आंसू
नया इक ज़ख़्म दिल पर भी लगा देते तो क्या होता

dam-e-aakhir bhi thee ummeed ik meri smaayat ko
jo lekar naam mera vo sdaa dete to kya hota
दम-ए-आख़िर भी थी उम्मीद इक मेरी समायत को
जो लेकर नाम मेरा वो सदा देते तो क्या होता

mire dast-e-dua ko bhi tagaful hi mila un se
utha kar haath jo apne duaa dete to kya hota
मेरे दस्त-ए-दुआ को भी तग़ाफ़ुल ही मिला उनसे
उठा कर हाथ जो अपने दुआ देते तो क्या होता

shb-e-furqath ka har lamha rahaa sadiyo’N se bhi bhari
dar-e-zanjeer ko chhann se bja dete to kya hota
शब-ए-फ़ुर्क़त का हर लम्हा रहा सदियों से भी भारी
दर-ए-ज़ंजीर को छन्न से बजा देते तो क्या होता

T’aasub ho chuki tahzeeb ab to bazm-e saaqi ki
jo gar ik jaam aankho’N se pila dete to kya hota
तआसुब हो चुकी तहज़ीब अब तो बज़्म-ए-साक़ी की
जो ग़र इक जाम आँखों से पिला देते तो क्या होता

tumhi se pyaar karte hain tumhi par jaan dete hain,
jo raah-e-‘prem’ mein khud ko luta dete to kya hota
तुम्ही से प्यार करते हैं तुम्ही पर जान देते है
जो राह-ए-‘प्रेम’ में ख़ुद को लुटा देते तो क्या होता

ⓒPrem Lata Sharma...8/3/2015
See More