रविवार, 21 अगस्त 2016

छोटी बहर में एक

ग़ज़ल

वक्त ऊँगली पे नचा देता है ...
तख़्त को ख़ाक़ बना देता है
WAQT UNGLI PE NCHAA DETA HAI
TAKHT KO KHAAQ BNAA DETA HAI

रहनुमा होने का करके दावा
पुरख़तर राह बता देता है
REHNUMA HONE KA DAAWA KAR KE
PURKHTAR RASTA BTAA DETA HAI

रुख को परदे में छिपा कर ज़ालिम
दिन में अंधेर मचा देता है
RUKH JO PARDE MEIN CHHIPA LETA HAIA
din MEIN ANDHER MCHAA DETA HAI

तोड़ कर तर्क-ए तआलुक मुझसे
हंस के जीने की दुआ देता है
TOD KAR TARK-E-TA’ALUK mujhse
hans ke JEENE KI DUA DETA HAI

नींद के शहर में फिर आज कोई
अपनी चीख़ों से सदा देता है
NEED KE SHAHR MEIn phir aaj koi
APNI CHEEKHON SE SADAA DETA HAI

खिल खिलाए बहार की मानिंद
हर सू जादू सा जगा देता है.
Khil KHILAAYE BAHAAR KI MAANIND
HAR SU JAADU SA JGAA DETA HAI

दे के दस्तक खामोशियों पे मिरी
चाप माज़ी की सुना देता है
de ke dastak KHAMOSHIYON PE MIRI
chaap MAAZI KI suna DETA HAI

नाम लिखता है ज़मीं पर मेरा
शर्म से खुद ही मिटा देता है
NAAM LIKHTA HAI ZMEEn PAR MERA
SHRM SE KHUD HI MITAA DETA HA

प्रेम’ के गाता है नग़मे शब को
नींद से मुझको जगा देता है
PREM KE GAATA HAI NAGHME SHAB KO
NEED SE MUJHKO JGAA DETA Hai...

© Prem Lata Sharma
31/3/2016