रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल

तेरा दिल पे जब से इज़ारा हुआ
न ये दिल कभी फिर हमारा हुआ
tera dil pe jab se izaara hua...
na ye dil kbhi fir hmaara hua

फ़लक पर हैं लाखों सितारे मगर
मेरी शब का कोई न तारा हुआ
phalk par hain laakhoN sitare magar
meri shab ka koi na taara hua

हज़ारों ही आशिक़ लुटे इश्क़ में
नहीं कुछ भी उनका ख़सारा हुआ
hzaaroN hi aashq lute ishq mein
nahi kuchh bhi unka khasaara hua

मुसलसल सफ़र में रही यह नदी
किसी मौज को कब किनारा हुआ
musalsal safar mein rahi yeh nadi
kisi mauj ko kab kinara hua

दवाएं बहुत कर चुके चारागर
मिरे दर्द का कुछ न चारा हुआ
dawaayeN bahut kar chuke charagar
mire dard ka kuchh na chaara hua

गया था वो कहके अभी आएगा
कहाँ मेल उस से दुबारा हुआ
gyaa thaa vo kahke abhi aayega
kahaaN mail us se dubara hua

हुआ दिल पे काबिज़ वो कुछ इस तरह
जिधर देखूं उसका नज़ारा हुआ
hua dil pe kaabiz vo kuchh is trah
jidhar dekhun uska nzaara hua

तेरे इश्क़ में कुछ लुटे इस तरह
जो था “प्रेम” का सब तुम्हारा हुआ
tere ishq mein kuchh lute is trah
jo thaa “ prem” ka sab tumhara hua

© Prem Lata Sharma..29/7/2015