रविवार, 21 अगस्त 2016

Ghazal
बंद कमरों से निभा दे एय दोस्त
आप सुन आप सुना दे एय दोस्त
Band kamroN se nibha de ae dost
aap sun aap suna de ae dost


 आशना कौन है तिरे ग़म से...
कर्ब सीने में छिपा दे एय दोस्त
aashna kaun hai tere gham se
karb seene mein chhipa de ae dost


 बोझ ढोना है अभी सदियों का
ख़ाक़ माज़ी पे बिछा दे एय दोस्त
bojh dhona hai tujhe sadiyo’N ka
khaaq maazi pe bichha de ae dost


 इश्क़ में आँख कहाँ लगती है
जाग कर उम्र बिता दे एय दोस्त
ishq mein aankh kahaaN lagti hai
jaag kar umr bita de ae dost


 आईना सच को दिखाने के लिए
सर को नेज़े पे चढ़ा दे एय दोस्त
aaina sach ko dikhan’y ke liye
sar ko neze pe Chadha de ae dost


 सुन सके बेज़बाँ की ख़ामोशी
तू समायत को बढ़ा दे एय दोस्त
sun ske bezba’N ki khamoshi
tu smaayat ko bdhaa de ae dost

दाने तस्बीह के घुमा या न घुमा
किसी गिरते को उठा दे एय दोस्त
daan’Y tasbeeh ke ghuma ya na ghuma
kisi girt’Y ko uthaa de ae dost

वक्त ने ज़ख़्म दिये हैं जिनको
कर रहम उनको दवा दे एय दोस्त
waqt ne zkhm diye hain jinko
kar raham unko dawaa de ae dost


 तीरगी ज़िंदगी की दूर भगा
सुबह सादिक़ की ज़िया दे एय दोस्त 
teergi zindgi ki door bhagaaa
subh sadiq ki zia de ae dost

©Prem Lata Sharma...17/4/2015