रविवार, 21 अगस्त 2016

गर्मी-ए-शौक़ में यूं जलते हैं
जैसे शो’ले कहीं पिघलते हैं
garmi-e-shauq mein yooN jalte haiN
jaise sho’ly kahiN nikal pighalte haiN

दिल में अरमान यूं मचलते हैं
जैसे दरिया कहीं उबलते हैं
dil mein armaan yooN machalte haiN
jaise daria kahiN ubalte haiN

बाग़ में तो बहार आई हैं
कब मगर गुंचा-ए-दिल खिलते है
baagh mein to bahaar aayi hai
kab magar gooncha-e-dil khilte haiN

इश्क़ की राह है रौशन अब तक
आशिक़ी के चिराग़ जलते हैं
Ishq ki raah hai raushan ab tak
ashiqi ke chiragh jalte haiN

जुस्तजू दिल में हो अगर जिंदा
नक्श-ए-पा ग़ैब तलक चलते हैं
justju dil mein ho agar zinda
naqsh-e-paa ghaib talak chalet haiN

जो तख़य्युल हो मीर के जैसा
लफ्ज़ तब शायरी में ढलते हैं
jo takhyyul ho meer ke jaisa
lafz tab shaayri mein dhalte haiN

तेरी रुसवाइयों के सब किस्से
आज तेरे ख़तों में जलते हैं
teri russwaaiyoN ke sab kisse
aaj tere khatoN mein jalte haiN

पहन कर तन पे खारदार क़बा
गुलिस्तां में गुलाब खिलते हैं
pahn kar tan pe khardaar qabaa
gulistaN meiN Gulaab khilte haiN

दोस्त कम हैं नासेह ज़्यादा हैं
जो ना मरते न दर से टलते हैं
dost haiN kam Naseh zyaada haiN
jo na marte na dar se talte haiN

महव-ए- हैरत हूँ कैसे शैतां हैं
खिलते गुंचों को जो मसलते हैं
mahv-E-hairat huN kaise shaitaN haiN
khilte gunchoN ko jo masalte HaiN

मिट चले देख अँधेरे दिल के
दीप अज़्म -ओ-अमल के जलते हैं
mit chale dekh andhere dil ke
deep azm-o-amal ke jalte haiN

ओढ़ कर आज रिदा उल्फ़त की
चल कहीं प्रेम नगर चलते है
orh kar aaj rida ulphat ki
Chal kahiN’ Prem’ Nagar chalet haiN

©Prem Lata Sharma ...8/9/2015