रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल

कुछ जाने पहचाने लोग
बन बैठे अनजाने लोग
kuchh jaan’y pehcahan’y log
ban baith’Y anjaan’y log

...
ख़ुद को बाहर ढूंढ रहे
ख़ुद से ही बेगाने लोग
 khud ko baahar dhoondh rahe
khud se hi beggaan’y log


 रूह की बात नहीं सुनते
यह पागल दीवाने लोग
 rooh ki baat nahi sunt’Y
Yeh paagal deewane log



 मुस्तिकबिल में ढूढ़ रहे
गुज़रे हुए ज़माने लोग
mustikbil mein dhoondh rah’Y
guzr’y huye zmaane log


 घबराए हैं भीड़ से अब  
ढूढ़ रहे वीराने लोग
ghabraaye hain bheed se ab
dhoondh rah’y veeran’y log



 प्यास प्यार की क्या जाने
यह खाली पैमाने लोग
pyaas pyaar ki kya jaan’y
yeh khaali paimaan’y log



 फ़िक्र-ओ-फ़न बीमार हुए
लंगड़ी ज़हन उड़ाने लोग
fikr-o-Fan beemar huye
langdi zahan udaan’y log



 लगज़िश पर रख बुनियादें
चले हैं महल बनाने लोग
lagzish par rakh buniaade’N
chale hain maham banaane log


 सहराओं में जलें फ़क़त
मजनू से परवाने लोग
sahraao’N mein jale faqat
majnu se parwaane log


 कहाँ ढूँढने जाओगे अब
‘प्रेम’ से जो मस्ताने लोग
kahaaN dhoondhn’Y jaaog’y
‘PREM’ se jo mastaan’Y log


 Prem Lata Sharma ...31/5/2015