रविवार, 21 अगस्त 2016

jab Pakistan mein senkdoN school ke bachhoN ko aatank ka shikar bnaaya tab yeh ghazal kahio thee

ghazal

दुःख दर्द के धुएं में अटा है जहान आज
इंसानियत की चींख़ से फटते हैं कान आज
DUKH DARD KE DHUYEN MEIN ATA HAI JAHAAN AAJ...
INSAANIYAT KI CHEENKH SE FAT-TE HAIN KAAN AAJ

सारी ज़मीं को आग का बिस्तर बना दिया
शोलों ने बढ़ के फूंक दिया आसमान आज
SAARI ZMEEn KO AAG KA BISTAR BNAA DIA
SHOA’LON NE BADH KE PHOONK DIYA AASMAAN AAJ

बरपा रहे हैं कहर यह मज़हब के नाम पर
आँखें है नम ख़ामोश हुई है ज़बान आज
BARPA RAHE HAIN KAHAR YEH MAZHAB KE NAAM PAR
AANKHEN HAIN NAM KHAMOSH HUI HAI ZBAAN AAJ

बच्चों का लहू देख के है जल रही फ़िज़ा
इस ज़ुल्म पर हैरान है गीता, क़ुरान आज
BACHHON KA LAHU DEKH KE HAI JAL RAHI FIZAA
IS ZULM PAR HAIRAAN HAI GEETA, QURAAN AAJ

आंधी है एक मौत की रक्सां यहाँ वहां
श्मशान कर दिया है एक गुलिस्तान आज
AANDHI HAI AIK MAUT KI RAKSAAN YAHAAn VAHAAn
SHAMSHAAN KAR DIYA HAI AIK GULISTAAN AAJ

कितने घरों को आग का मसकन बना दिया
अफ़्सुर्दगी में डूब गया है जहान आज
KITNE GHARON KO AAG KA MASKAN BNAA DIYA
AFSURDAGI MEIN DOOB GYAA HAI JAHAAN AAJ

दैर-ओ-हरम में तीरगी सी छा रही है आज
क्यों थरथरा रही है सहर की अज़ान आज
DAIR-O-HARM MEIN TEERGI SI CHHA RAHI HAI AAJ
KYON THARTHRAA RAHI HAI SAHAR KI AZAAN AAJ

हर सू सुकून हो यही इक ख्व़ाब था मिरा
क्यों सर निगूं हैं “प्रेम” के सब कद्रदान आज
HAR SOO SUKOON HO YAHI IK KHWAAB THA MIRA
KYON SAR NIGOOn HAIN ‘ PREM’ KE SAB KDRDAAN AAJ

प्रेम लता शर्मा ....16/12/2014