रविवार, 21 अगस्त 2016

GHAZAL

क़यामत था किस्सा वो अफ़्सुर्दगी का
बलन्द कहकहों से मिलन वो नमी का
qyaamat thaa kissa vo afsurdgi ka...
baland kahkahoN se milan vo nami ka

उठा जो नक़ाब हुस्न की दिल्लगी का
किया सामना इक अजब सनसनी का
uthaa jo naqaab husn ki dillagi ka
kiya saamna ik ajab sansani ka

न जाने किसे मांगती थी दुआ में
झुका देखा सजदे में सर जिंदगी का
naa jaane kise maangti theei dua mein
jhuka dekha sajde mein sar zindgi ka

चला एक जुगनू मिटाने अंधेरे
गला शब ने घोंटा था जब रौशनी का
chalaa aikjugnu mitaane andhere
glaashab ne ghonta thaa jab raushni ka

अज़ल से अजल तक रहा था रहेगा
है जन्मो का रिश्ता तिरी दोस्ती का
aza lse ajal tak rahaa thaa rahega
hai janmo ka rishta tiri dosti ka

वही ‘प्रेम’ की छू सकेगा बलन्दी
जो हो क़ैस लैला का पुन्नू ससी का
vahi prem ki chhoo sakega bulandi
jo ho qaislaila ka punnu sasi ka

prem Lata Sharma ..2/7/2016