रविवार, 21 अगस्त 2016

ग़ज़ल
सुख़न पे ज़हन का इजारा नहीं है
बहुत दिन हुए कुछ भी सोचा नहीं है

ये यादें ,ये आहें, ये ख़्वाबों की दुनिया...
इस आलम में दिल मेरा तन्हा नहीं है

है उसकी भी पलकें थकी सी,बुझी सी
जगा के मुझे ख़ुद भी सोया नहीं है

मोहब्बत में रुसवा हुए इस क़दर हम
किसी तौर अब ख़ौफ़-ए-उक़बा नहीं है

शब-ए-वस्ल आँखों से मय का वो पीना
अभी तक नशा उसका उतरा नहीं है

मिरी ज़ात में ही छिपा है कहीं वो
कि ख़ुद से जुदा उसको देखा नहीं है

तेरी बेनियाज़ी की सूली चढ़े, पर
तू रुसवा कभी हो यह चाहा नहीं है

सकूं चाहते हो जो अहल-ए-ज़माना
कोई ‘प्रेम’ सा और रस्ता नहीं है

ghazal

Sukhan pe zahan ka ijaara nahi hai
bahut din huye kuchh bhi socha nahi hai

yeh yaadeN, yeh aaheN, yeh khwaaboN ki duniya
is aalam mein dil mera tanha nahi hai

hain uski bhi palkeN, thaki si bujhi si
jgaa ke mujhe khud bhi soya nahi hai

mohabbat me ruswa huye is qadar hum
kisi taur ab khauf-e-uqba nahi hai

shab-e-wasal aankhoN se mae ka peena
nshaa ab talak uska utra nahi hai

miri zaat meinb hi chhipa hai kahin vo
ki khud se juda usko dekha nahi hai

teri beniyaazi ki sooli charhe ham
tu ruswa kabhi ho yeh chaaha nahi hai

sukooN chaht’Y ho jo ehal-e-zmaana
koi ‘PREM’ sa aur rasta nahi hai

Prem Lata Sharma...11/12/2014