शनिवार, 16 मई 2015

GHAZAL

है कैसा यह रिश्तों का सब ताना बाना
कहाँ इतना आसान रस्में निभाना?
hai kaisa yeh rishto”n ka sab taana baana...
kahaa’N itna aasaa’N rasme nibhana

मेरे हौसले पे खुदा भी है हैरान
बनाया है खुद बिजलियों में ठिकाना
mere hausle pe khuda bhi hai hairaan
bnaaya hai khud bijloyo’N mein thikaana

यह वादे यह रस्मे , मुहब्बत की क़समे
यह लुत्फ़-ए कहानी बनेगा फ़साना
yeh wade yeh rasme mohabbat ki kasme
yeh lutph-e-kahaani banega phsaana

हुए गुम सभी रास्ते जुस्तजू के
लगे ज़िदगी जैसे हो क़ैदखाना
huye gum sabhi raste justju ke
lage zindgi jaise ho qaidkhaana

नहीं इश्क़ है यह फ़रेब-ए–मुहब्बत
कि पास-ए-वफ़ा का नहीं है ज़माना
nahi ishq hai yeh phreb-e-muhabbat
ki paas-e-wapha ka nahi hai zmaana

वो संग दिल यक़ीनन पिघल कर रहेगा
इबादत में अपनी मुहब्बत मिलाना
vo sang dil yaqeenan pighal ke rahega
ibaadat mein apni muhabbat milaana

उन्ही की बदौलत मिली क़ैद-ए-ज़िन्दां
यह उनकी है फ़ितरत कि फ़ितने उठाना
unhi ki bdaulat mili qaid-e-zinda’N
yeh unki hai phitarat ki phitne uthaana

सफ़र हो घरों पर या सहरा नवर्दी
ये जाँ देके वादा हमेशा निभाना
saphar ho gharo’N par ya sahra navardi
ye jaa’N deke wada hamesha nibhaana

कभी प्रेम रूठे तो उस को मना लो
गवाया जो तुमने तो मुश्किल है पाना
kabhi prem roothe to usko mnaa lo
ganwaaya jo tume to mushkil hai paana

Prem Lata Sharma…27/4/2015