शनिवार, 16 मई 2015

TARHI GHAZAL
misra: imtihanoN mein guzaari zindagi
ABR-E-NAISAn SI TUMAHARI ZINDGI
KHAANA-E-VEERAn HMAARI ZINDGI
अब्र-ए-नैसां सी तुम्हारी ज़िंदगी...
खाना-ए- वीरां हमारी ज़िंदगी

PREM KO PYAARI TUMHARI ZINDGI
ISHQ SE AARI HMAARI ZINDGI
प्रेम को प्यारी तुम्हारी ज़िंदगी
इश्क़ से आरी हमारी ज़िंदगी

ZINDGI SE ZINDGI MANFI HUI
HO AGYI PATTHAR SI BHARI ZINDGI
ज़िंदगी से ज़िंदगी मनफ़ी हुई
हो गयी पत्थर सी भारी ज़िंदगी

AIK BHI GUL NA MUKDDAR MEIN HUA
KHAAR KE DIL MEIN UTAARI ZINDGI
एक भी गुल न मुकद्दर में हुआ
ख़ार के दिल में उतारी ज़िंदगी

POOCHHTI HAR LAHAD SE APNA PTAA
DAFAN KIS MEIN HAI DULAARI ZINDGI
पूछती हर लहद से अपना पता
दफ़न किस में है दुलारी ज़िंदगी

TEERGI SE MIL GALE HAI DEKHTI
ROUSHNI KE KHAAB SAARI ZINDGI
तीरगी से मिल गले है देखती
रौशनी के ख़ाब सारी ज़िंदगी

ORH KAR SAR PAR RIDA KHURSHEED KI
DHOOP MEIN HAM NE GUZAARI ZINDGI
ओढ़ कर सर पर रिदा ख़ुर्शीद की
धूप में हमने गुज़ारी ज़िंदगी

JHOOTH KE PARDE MEIN SAANSE’n LE RAHI
BAN GAYI HAI ISHTHAARI ZINDGI
झूठ के परदे में सांसें ले रही
बन गयी है इश्तहारी ज़िंदगी

PEHAN KAR SHAB MEIN ANDHERE KI QBAA
KAR RAHI JUGNU SHUMARI ZINDGI
पहन कर शब में अंधेरे की क़बा
कर रही जुगनू शुमारी ज़िंदगी

“PREM” KA CHAEHRA HUA DARVESH SA
SAJDA MAULA KA HMAARI ZINDGI
“प्रेम” का चेहरा हुआ दरवेश सा
सजदा मौला का है प्यारी ज़िंदगी.