शनिवार, 6 दिसंबर 2014

ग़ज़ल ...aapki duaaoN ki muntzir

हम अहल-ए-जुनूं की बस मौजों पे सवारी है
कागज़ का सफ़ीना है गरदाब से यारी है
...
साहिल पे तड़पती है अब तिश्ना लबी हर दम
यह कैसा समंदर है जो मौज से आरी है

यह हर्फ़-ए-वफ़ा जिसने लिक्खा था मिरे दिल पर
अब वादा निभाने की, खुद उसकी ही बारी है

ऐ शब के सितारों तुम खुर्शीद को ले आओ
माज़ी के तआकुब में हर रात गुज़ारी है

तौबा का ज़माना है पीने का नहीं मौक़ा
आंखों के यह डोरे तो उल्फ़त की ख़ुमारी है
,
इल्ज़ाम के सब पत्थर इस तरह सहे हम ने
हर ज़ख्म के सीने में जो चोट है कारी है

खूँ आँखों से जो टपका अशआ’र के पैकर में
तब प्रेम की ग़ज़लों ने तस्वीर उतारी है

मौजों ...लहरों
गरदाब..भंवर
सफ़ीना .. नाव
१कारी ...गहरी २ख़ुर्शीद...सूरज ३साहिल...किनारा ४ माज़ी...अतीत ५तिश्ना लबी ...होंटों की प्यास ६ आरी ...खाली

प्रेम लता शर्मा
३०/३/२०१४
HAM EHAL-E-JUNOOn KI BAS MAUJON PE SAWAARI HAI
KAGAZ KA SPHEENA HAI GARDAAB SE YAARI HAI

SAHIL PE TADAPTI HA AB TISHNA LABI HAR DAM
YEH KAISA SAMANDER HAI JO MAUJ SE ARRI HAI

YEH HARF-E-WAFAA JIS NE LIKKHA THA MIRE DIL PAR
AB WADAA NIBHANE KI KHUD USKI HI BAARI HAI

AEA SHAB KE SITARO TUM KHURSHEED KO LE AAO
MAAZI KE TA-AKUB MEIN HAR RAAT GUZAARI HAI

TAUBA KA ZMAANA HAI , PEENE KA NAHI MAUQA
AANKHON KE YEH DORE TO ULFAT KI KHUMAARI HAI

ILZAAM KE SAB PATHHAR IS TRAH SAHE HAM NE
HAR ZKHAM KE SEENE MEIN JO CHOT HAI KAARI HAI

KHOON AANKHON SE JO TAPKAA ASHAA’R KE PAIKAR MEIN
TAB PREM KI GHAZALON NE TASVEER UTAARI HAI

©Prem Lata Sharma...30/3/2014