शनिवार, 16 मई 2015

GHAZAL

तस्सवुर में ही आना जाना हुआ
हक़ीक़त में कब उसका आना हुआ
TASSVUR MEIN HI AANA JAANA HUA...
HAQEEQAT MEIN KAB USKA AANA HUA

किया रुसवा उल्फत ने कुछ इस तरह
वो शर्मिंदा और मैं दीवाना हुआ
KIYA RUSWA ULFAT NE KUCHH IS TRAH
VO SHARMIDA AUR MAIN DEEWANA HUA

गए वक्त जैसा न आया कभी
वो ऐसे सफ़र पे रवाना हुआ
GYAA, FIR NA AAYA KABHI LAUT KAR
VO AISE SAFAR PE RWAANA HUA

मुहब्बत की देखो ये जादूगरी
बस इक लम्हा जैसे फ़साना हुआ
MUHABBAT KI dekho ye jadugari
Bas ik lamha jaise fsaana hua
हवाओं के हमराह होकर रहे
कहाँ कोई अपना ठिकाना हुआ
HWAAON KE HAMRAAH HOKAR RAHE
KAHAA’N KOI APNA THIKANA HUA

रही भागती दूर ख़ुशियाँ सदा
मगर दर्द शाना ब शाना हुआ

RAHI BHAGTI DOOR KHUSHIYAn SADA
MAGAR DARD SHANA B SHANA HUA

चमकती रही शम’अ ये ‘प्रेम’की
लो फिर ज़ख़्म कोई सुहाना हुआ
CHAMAKTI RAHI SHAMMA YE UMR BHAR
LO FIR ZKHM KOI SUHANA HUA.