शनिवार, 16 मई 2015

तरही ग़ज़ल

मिसरा: मज़ा आने लगा रुसवाइयों में

ज़िया ख़ुद आएगी बीनाइयों में...
जो ज़िन्दा जर्फ़ है सच्चाइयों में

यही तो मेरी तौफ़ीक-ए-जुनूं है
मज़ा आने लगा रुसवाइयों में

हक़ीक़ी रहनुमा मिलता नहीं है
ठिकाना खो गया परछाइयों में

मुझे छूकर दिवाना कर गयी जो
तेरी ख़ुशबू है कुछ पुरवाइयों में

कभी तो इक नज़र कर ले इधर भी
कि हम भी हैं तेरे सौदाइयों में

हदें जब तोड़ दी ख़ामोशियों ने
तो जुरअत आ गयी गोयाइयों में

कि अब तो रूह को डसने लगी हैं
कु’छैसा ज़ह्र है तन्हाइयों में

दिए मुन्किर हुए तो ग़म नहीं है
है दिल रौशन तेरी रानाइयों में

Tarhi Ghazal
misra: Mazaa Aane Lagaa Ruswaaiyo'n Me'n

zia khud aayegi beenaiyoN me’n
jo zinda zarf hai sachhaiyoN me’n

yahi to meri Taufeeq-e-junu’n hai
mzaa aane lgaa ruswaiyoN me’n

haqeeqi rahnuma milta nahi hai
thikaana kho gayaa parchhaiyoN me’n

mujhe chhookar iwana kar gayi jo
teri khushboo hai kuchh purwaaiyoN mein

kabhi to ik nazar kar le idhar bhi
ki ham bhi hain tere saudaaiyoN me’n

hade’N jab tod di khamoshiyoN ne
to jurr’at aa gayi goaaiyoN me’n

ki ab to rooh ko dasne lagi hain
ku chhaisa-- zahr hai tanhaaiyoN me’n

diye munkir huye to gham nahi hai
hai dil raushan teri raanaiyoN me,n