शनिवार, 6 दिसंबर 2014

तरही मिसरा :डॉ साबिर की ग़ज़ल से
‘ हमने हर हाल में जीने की क़सम खायी है’
HAM NE HAR HAAL MEIN JEENE KI QASAM KHAAYI HAI...

GHAZAL
साज़-ए अनहद सी ही आवाज़ कोई आई है
दिल-ए-नासाज़ पे दीवानगी सी छाई है
saaz-e-anhad si hi awaaz koi aayi hai
dil-e-nasaaz pe deewaangi si chhayi hai

दिल में सहरा है जिगर आग, चश्म पुरनम है
तुम्हारी याद भी क्या क्या सौगात लायी है
dil mein sahra hai jigar aag chashm punam hai
tumhari yaad bhi kya kya sagaat laayi hai

वो एक लम्हा तिरे प्यार में गुज़रा था कभी
हर एक लम्हा उसी लम्हे की याद आई है
vo aik lamha tire pyaar mein guzra tha kabhi
har aik lamha usi lamhe ki yaad aayi hai

तुम्हारे बिन तो है दिल मक़बरा उदासी का
दर्द ही दर्द है इक आलम-ए-तन्हाई
bin to hai dil maqbraa udaadi ka
dard hi dard hai ik aalam-e-tanhaayi hai

रेत पर आज भी अल्हा को जो लैला लिख दे
उसी के नूर में एजाज़-ए मसीहाई है
reit par aaj bhi jo allah ko Laila likh de
usi ke noor mein eajaaz-e-maseehaayi hai

शिद्दत-ए-दर्द हो तारीक़ हो या ताबिंदा
हमने हर हाल में जीने क़सम खायी है
shiddat-e-dard ho taareeq ho ya taabinda
ham ne har haal mein jeene ki qasam khaayi hai

‘प्रेम’ की आँख में साहिल का ख़्वाब क्या कहिये
कश्ती-ए-इश्क़ सदा मौजों से टकराई
‘ prem, ki aankh mein sahil ka khwaab kya
kashti -e-ishq sada maujo’n se takraayi hai

© Prem Lata Sharma...01/09/2014