शनिवार, 6 दिसंबर 2014

Ghazal

दिलरुबा जब से तुझ को पाया है
दिल में एहसास-ए-ज़िया आया है
DILRUBA JAB SE TUJH KO PAAYA HAI...
DIL MEIN EHSAAS-E-ZIYA AAYA HAI

वो समन्दर है राह तक़ता है
पानी नदियों का गुनगुनाया है
VO SAMANDER HAI RAAH TAQTA HAI
PAANI NADIYO’n KA GUNGUNAYA HAI

साक़िया ने ये क्या पिलाया है
भरके आतिश-ब-जाम लाया है
SAAQIYA NE YE KYA PILAAYA HAI
BHAR KE AATISH-B-JAAM LAAYA HAI

एक ख़ुशबू सी उड़ के आई है
रूप कलियों का मुस्कुराया है
AIK KHUSHBOO SI UD KE AAYI HAI,
KALIYO’n KA MUSKURAYA HAI

खुल गए पंख अब परिंदों के
आसमा उन में जा समाया है
KHUL GAYE PANKH AB PRINDO’n KE,
AASMA UN ME JAA SMAAYA HAI

जो न करना था वो भी कर गुज़रे
इश्क़ ने इस क़दर नचाया है
JO NA KARNA THA VO BHI KAR GUZRE
ISHQ NE IS QADAR NCHAAYA HAI

दर्द सीने में जम गया जैसे
हिज्र ने यूँ मुझे रुलाया है
DARD SEENE MEIN JAM GYAA JAISE
HIJR NE YOO”n MUJHE RULAAYA HAI

तन गईं हर दरख़्त की शाख़ें
पत्तों ने प्रेम गीत गाया है
TAN GAYI’n HAR DARKHT KI SHAKHE”n
PATTO’n NE ‘PREM’ GEET GAAYA HAI

© Prem Lata Sharma
17/8/2014