शनिवार, 6 दिसंबर 2014

GHAZAL

दिल की लगी तो दिल में लगाकर चली गयी
इक प्यास थी जो प्यास बढाकर चली गयी
DIL KI LAGI TO DIL MEIN LAGA KAR CHALI GAYEE ...
AIK PYAAS THI JO PYAAS BADHA KAR CHALI GAYEE

उल्फ़त हमारी साथ बगूले जो लायी थी
सब मेरे सहन-ए-दिल में लुटा कर चली गयी
ULFAT HAMARI SATH BAGHOOLE JO LAAYEE THI
SAB MERE SAHN E DIL MEIN LUTA KAR CHALI GAYE

रक्खी थी आईने हक़ीक़त सम्भाल कर
वो आईने से अक्स चुरा कर चली गयी
RAKKHI THI AAYENE MEIN HAQEEQAT SANBHAL KAR
WO AAYEENE SE AKS CHURA KAR CHALI GAYEE

आंधी की तरह भागती आई थी ज़िंदगी
रहबर के नक़्शे-ए-पा भी मिटा कर चली गयी
AANDHI KI TARH BHAGTI AAYEE THI ZINDAGI
RAHBAR KE NAQSH E PAA BHI MITA KAR CHALI GAYE

बदमस्त फिजाओं में तो घूंघट को सम्भाला
उलटी हवा रिदा को उड़ा कर चली गयी
Badmast fizaao’N mein to ghoonghat ko smbhal
ULTI HAWAA REDA KO UDA KAR CHALI GAYEE

मदहोशियों की लायी थी ख़ुशबू समेट कर
ख़्वाबों की कोई फ़स्ल उगा कर चली गयी
MADHOSHIYON KI LAAYEE THI KHUSHBOO SAMET KAR
KHAAWABO KI AIK FASL UGA KAR CHALI GAYEE

लब सी लिए थे हम ने मोहब्बत की बात पर
आँखों की राह दिल में समा कर चली गयी
Lab see liye thy ham ne muhabbat ki baat par..
AANKHON KI RAAH DIL MEIN SAMA KAR CHALI GAYEE

ढलने के बाद रात जो आयी थी रौशनी
तारीकी-ए-हयात बढ़ा कर चली गयी
DHALNE KE BAAD RAAT JO AAYEE THI ROSHNI
TAREEKI E HAYAAT BADHA KAR CHALI GAYEE

Prem Lata Sharma…..9/10/2014

1बगूले = बवंडर 2 रिदा= दुपट्टा 3 सहन-ए-दिल= आँगन 4 तारीकी-ए-हयात =ज़िंदगी का अँधेरा 5 रहबर =रास्ता दिखाने वाला 6 बदमस्त =मदहोश
See More