सोमवार, 16 सितंबर 2013

सहरा है ये सहरा है यहाँ साया नहीं है
बस धूप का है साथ कोई अपना नहीं है

हर रोज़ नई उठती है हालात की आंधी
उम्मीद की शाख़ों पे कोई पत्ता नहीं है

अब धूप उतरती ही नहीं सहन में दिल के
खुश हो के कोई फूल यहाँ खिलता नहीं है

सच है कि मुहब्बत की गली अंधी गली है
इक तेरे सिवा कुछ भी यहाँ दिखता नही है

यह तर्क-ए-ताल्लुक तो बना जान का दुश्मन
दिल क्या करे जब इसका कोई चारा नहीं है

समझेगा कहाँ लज्ज़त-ए-गिरयां का असर वो
उल्फ़त में कभी दर्द से जो तड़पा नहीं है

दिल में है निहाँ शिद्दत-ए-जज़्बात का आलम
अश्कों से कभी बहने को ये कहता नहीं है

उम्मीद का दीपक भी जलाया था सर-ए-राह
लेकिन वो अभी ‘प्रेम’ नगर आया नहीं है
प्रेम लता शर्मा .......१५/९/२०१३
Ghazal
Sahra hai yeh sahra hai yahaan saaya nahi hai
bas dhoop ka hai saath koi apna nahi hai

har roz nai uth-ti hai haalaat ki aandhi
ummid ki shaakhon pe koi ptta nahi hai

ab dhoop utarti hi nahi sahan mein dil ke
khush ho ke koi fool yahaan khilta nahi hai

sach hai ki mohabbat ki gali andhi gali hai
ik tere siwa kuchh bhi yaha’n dikhta nahi hai

yeh tarq-e-taalluk to bna jaan ka dushman
dil kya kare jab iska koi chaara nahi hai

samjhega kahaa’n lazzat-e-giriyan ka asar vo
ulfat me kabhi dard se jo tadpa nahi hai

dil mein hai niha’n shiddat-e-jazbaat ka aalam
ashko’n se kabhi bahne ko yeh kahta nahi hai

ummid ka Deepak to jlaaya tha sar-e-raah
lekin vo abhi ‘prem’ nagar aaya nahi hai
Prem Lata Sharma .....15/9/2013
See More