सोमवार, 16 सितंबर 2013

GHAZAL
जब मुझे तू ही तू नज़र आया
शेर कहने का तब हुनर आया
JAB MUJHE TU HI TU NAZAR AAYA
SHE’R KAHN’Y KA TAB HUNAR AAY’A

तेरे हुस्न-ओ जमाल का साया
मेरे चेहरे पे नूर बन छाया
TERE HUSN-O-JMAAL KA SAAYA
MERE MAATH’Y PE NOOR BAN CHHAYA

एक  नासूर था निहां दिल में
उसको देखा तो फिर उभर आया

AIK NAASOOR THA NIHA,N DIL MEIN
USKO DEKHA TO FIR UBHAR AAY’A

वो तो मासूम कत्ल कर के रहा

और इलज़ाम मेरे सर आया
VO TO MASOOM QATL KAR KE RAHAA
AUR ILZAAM MERE SIR AAY’A

मेरे ख़्वाबों में और ख्यालों में

तेरा चेहरा शब-ओ-सहर आया
MERE KHWABO’N MEIN AUR KHYAALO’N MEIN
TERA CHEHRA SHAB-O-SAHR AAY.A

मैंने परवाज़ को जो पर खोले

आसमा लापता नज़र आया
MAIN NE PARWAAZ KO JO PAR KHOL,Y
AASMA LAPTAA NAZAR AAY,A

वे  ना मस्जिद न बारगाहों में
“प्रेम” के दिल में वो नज़र आया

VE NA MASJID NA BAARGAAHO’N MEIN
PREM KE DIL MEIN VO NAZAR AAY,A