सोमवार, 28 अप्रैल 2014

तरही ग़ज़ल : पापा हुज़ूर की ग़ज़ल का एक मिसरा : ‘‘जूता भी जो पाओं में नहीं है तो नहीं है’’

ग़ज़ल

दर है न मकाँ है न मकानों का मकीं है...
इस दश्त में लगता है कोई अपना नहीं है

हैं और भी कौनेन में सय्यारे हज़ारों
लेकिन यह ज़मीं सिर्फ़ मुहब्बत की ज़मीं है

इस इश्क़ ने शाही भी फ़क़ीरी में बदल दी
जूता भी जो पाओं में नहीं है तो नहीं है

खुद मौजों से टकरा के किनारे पे लगेंगे
गरदाब-ए-बला में कोई इल्यास नहीं है

हम लज़्ज़त-ए-गिरियाँ का मज़ा कैसे बतायें
अश्क़ों में तबस्सुम है मसर्रत में जबीं है

सुन ले मेरे नग़मात का पैग़ाम ख़ुदारा
हर शे’र का हर लफ्ज़ तसव्वुर के क़रीं है

हर हाल में बस शुक्र ख़ुदा का है लबों पर
मैं दुख़तर-ए-साबिर हूँ मेरा सब्र हसीं है

क्यों ‘प्रेम’ को इक जुर्म समझती है यह दुनिया
जब ज़ेर-ए-क़दम प्रेम के हर ताज-ओ-नगीं है

TARHI GHAZAL ……. AIK KOSHISH
DAR HAI NA MKAA’N HAI NA MAKAANO’N KA MAKEE’N HAI
IS DASHT MEIN LAGTA HAI KOI APNA NAHI’N HAI

HAIn AUR BHI KAUNAIN ME SAYYARE HAZAROn
LEKIN YE ZAMIn SIRF MOHABBAT KI ZAMIn hai

IS ISHQ NE SHAAHI BHI FAKEERI MEIN BADAL DEE
JOOTA BHI JO PAAO’N MEIN NAHI’N HAI TO NAHI’N HAI

KHUD MAUJO’N SE TAKRA KE KINAARE PE LAGENGE
GARDAAB-E-BLAA MEIN KOI ILYAAS NAHI’N HAI

HAM LAZZAT-E-GIRIYA’N KA MZAA KAISE BTAAYE’N
ASHQO’N MEIN TABSSUM HAI MASARRAT MEIN JABEE’N HAI

SUN LE MERE NAGHMAAT KA PAIGHAM KHUDA-RA
HER SHE'R KA HER LAFZ TASAWWUR KE QARIn HAI

HAR HAAL MEIN BAS SHUKR KHUDA KA HAI LABO’N PAR
MAIN DUKHTAR-E SABIR HUN MERA SABR HASEE’N HAI

KYON ‘PREM’ KO IK JURM SAMJHATI HAI YEH DUNIYA
JAB ZER-E-QADAM PREM KE HAR TAAJ-O-NAGEE’N HAI

Prem Lata Sharma….12/1/2014
See More