मंगलवार, 22 अप्रैल 2014


  • आज मिलने मुझे कुछ दर्द पुराने आये
    मेरी रातों  के अंधेरों को बढ़ाने आये

     
    कैसे नाकाम हुई हसरतें इक इक करके
    फिर से माज़ी की कोई चाप सुनाने आये

    जिस्म का प्यार कोई प्यार नहीं होता है
    प्यार का कोई मसीहा यह पढ़ाने आये


    बड़ी मुश्किल से सुलाई थी तमन्ना उनकी 
    झूठे जलवों से मुझे फिर से लुभाने आये


    करके बर्बाद मुझे माँगा है चाहत का हिसाब
    आज फिर रूह को बस जिस्म बनाने आये


    अब तो पलकों पे ही पथरा गए आंसू मेरे
    तन्ज़ दे दे के मुझे फिर से रुलाने आये


    कितनी ख़ामोश थी अहसास कि दुनिया मेरी
    फिर से सन्नाटों में कोहराम मचाने आये

    प्रेम लता शर्मा ......१४/०६/२०१३ 

    Aaj milne mujhe kuchh dard puraane aaye,
    meri raatoN ke andheroN ko barhaane aaye

    kais'Y nakaam hui hasrateN ik ik karke
    fir se maazi ki koi chaap sunaane'Y aaye


    jism ka pyaar koi pyaar nahi hota haf
    pyaar ka koi maseeha yeh btaane'y aaye


    badi mushkil se sulaayi thee tammna unki
    jhooth'Y jalwoN se mujhe fir se lubhaane aaye

    karke barbaad mujhe maanga hai chaht ka hisaab
    aaj fir rooh ko bas jism banaane aaye

    ab to palkon pe hi pathra gaye aansoo mere
    tanz de de ke mujhe fir se rulaane aaye

    kitni khaamosh thee ahsaas ki duniya meri
    fir se sannatoN mein kohraam machaane aaye