सोमवार, 28 अप्रैल 2014

ग़ज़ल

ख़ामशी में गुफ़्तगू होती रही
आरज़ू की आरज़ू बढ़ती रही
...
सीना-ए खुर्शीद में वो आग थी
धूप से सारी ज़मीं जलती रही

शीशा-ए-दिल संग से टकराया तो
किरची किरची उम्र भर चुभती रही

ऊपर ऊपर बर्फ में चुप थी दबी
नीचे नीचे इक नदी बनती रही

ख्वाब गुम जब हो गए महताब में
क़तरा क़तरा चांदनी घुलती रही

हर अहद देखे यहाँ कौरव बहुत
हर अहद इक द्रौपदी लुटती रही

बहर-ए-दिल में जब उठा तूफ़ान तो
प्रेम में डूबी लहर उठती रही

प्रेम लता शर्मा.....२७/४/ २०१४

Khaamshi mein guftgu hoti rahi
aarzoo ki aarzoo barhti rahi

seena-a-khursheed mein vo aag thee
dhoop mein saari zameeN jalti rahi

sheesha-e-dil sang se takraaya tao
umr bhar bas kirchiyaaN chubhti rahi

oopar oopar barf mein chup thee dabi
neeche neeche ik nadi banti rahi

khawaab chup jab ho gaye mahtaab mein
qatra qatra chaandni ghulti rahi

har ehad dekhe yahaaN kaurav bahut
har ehad ik draupdi lut-ti rahi

bahar-e-dil mein jab uthaa tufaaN to
PREM mein doobi lehar uth-ti rahi